सोमवार, सितंबर 03, 2018


   समीक्षा                                                               
             लोक मे रचाबसा रचनाकार
                           - राजेन्द्र नागदेव
त्रिलोचन शास्त्री जैसे सामान्य से भिन्न जीवन जीते रहने वाले, ग्राम लोक से सम्पृक्त रचनाकार के जीवन एवं साहित्य के विभिन्न आयामों को सामने लाने की आवश्यकता साहित्य जगत में महसूस की जा रही थी। श्री महावीर अग्रवाल को दिये एक साक्षात्कार में डा.प्रभाकर श्रोत्रिय ने इस आवश्यकता को व्यक्त किया था। वे कहते हैं “जीवन के कटु सत्य को सबसे निकट से देखने और भोगने वाले हिन्दी रचनाकारों में त्रिलोचन का संसार अलग ही रहा है। पाँच दशक से अधिक का समय बीत चुका है, अस्सी पार करने के बाद भी त्रिलोचनजी का ठेठ गाँव का आचरण नहीं बदला . .” इसी साक्षात्कार में आगे कहते हैंउनकी रचना की परिपक्वता आज भी मूल्यांकन की बाट जोह रही है। जन्म शताब्दी वर्ष में ऐसा हो सका तो निश्चित रूप से हम एक महान जीवन को भी पहचानेंगे और बड़ी कविता को भी। और यह काम अभी बाकी है। इस बाकी कार्य को करने का प्रयास हिन्दी-अवधी के वरिष्ठ रचनाकार डा भारतेन्दु मिश्र ने समीक्ष्य पुस्तक “त्रिलोचन शास्त्री” में किया है। लेखक को शास्त्रीजी के सम्पर्क में कुछ वर्ष रहने का सुअवसर प्राप्त हुआ था। निश्चित रूप से उन्हें शास्त्रीजी जैसे फक्कड़ व्यक्तित्व को निकट से देखने समझने का मौका मिला होगा और वह सब इस पुस्तक में प्रामाणिकता के साथ आया होगा।
पुस्तक में आठ अध्याय हैं- जीवन परिचय, त्रिलोचन की कविताई, उनकी छान्दस चेतना, अवधी कविताएँ, उनके सरोकार, भाषा, गद्य, उनके साथ लेखक के संबंध आदि। इस लघु पुस्तक में त्रिलोचनजी के व्यक्तित्व एवं रचनाकर्म के विभिन्न आयामों को संक्षेप में किंतु समग्रता में प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है जो शास्त्रीजी के साहित्यिक अवदान को रेखांकित करने के प्रारंभिक चरण के रूप में बहुत महत्वपूर्ण है। यथासमय इस दिशा में विस्तृत कार्य तो होगा ही, यह प्रथम सोपान एक अभिनंदनीय प्रयास है। यह पुस्तक निश्चय ही त्रिलोचनजी पर भविष्य में शोधकार्य करने वालों के लिए मार्गदर्शन का कार्य करेगी।
अध्याय एक में शास्त्रीजी के जन्म से अवसान तक के संघर्षपूर्ण जीवन का चित्रण है। लेखक उनके जीवन के अनेक पक्षों यथा; पहलवानी, कविताई, सम्पादन कौशल, लगातार गरीबी, शिक्षा, क्रांतिकारियों से कुछ काल तक सम्पर्क, आजीविका हेतु साहित्यिक संस्थाओं ‘मुक्तिबोध सृजनपीठ” आदि में कार्य, सम्मानों का सिलसिला आदि से परिचय कराता है। इसी फक्कड़ाना जीवन से उद्भूत उनके रचनाकर्म पर भी प्रकाश डालता है। शास्त्रीजी ने कभी जीवन में आर्थिक पक्ष को महत्व नहीं दिया था। इस कारण उनका जीवन संकटमय रहा। यह तथ्य बार-बार उनकी कविताओं में भी व्यक्त हुआ है।
शास्त्रीजी के पात्रों के संबंध में प्राक्कथन में आए इस वाक्य पर लेखक ने अध्याय एक में विस्तार से चर्चा की है “ शास्त्रीजी ने कथ्य में कभी किसी महानायक की खोज नहीं की अपितु, सामान्य नगई और चम्पा जैसे पात्रों को नायक विशेष बनाने का प्रयास किया”।
अध्याय तीन “ त्रिलोचन की छान्दस चेतना”- लेखक के अनुसार शास्त्रीजी की कविताएँ मूल रूप से छन्दोबद्ध कविताएं हैं। उनकी कविता का विकास निराला के प्रगीत, शेक्स्पीयर के सानेट से होता हुआ अपनी बानी बोली में तुलसी तक आया।अब उन्होंने अपनी जनपदीय बोली(पश्चिमी अवधी) में अपने मन के अनुकूल बरवै छंद का अभ्यास किया” (पृ 19)। लेखक उन्हें प्रगतिशील छांदस परंपरा का कवि मानता हैं।
शास्त्रीजी न किसी विशिष्ट काव्य विधा के पक्षधर थे न किसी विचारधारा के। वे सच्चे अर्थों में लोक के दुख-सुख को कविता में लोकभाषा में ही व्यक्त करने वाले कवि थे। लेखक को 1989 से 1997 तक उनके सान्निध्य का लाभ प्राप्त हुआ था। इतने लंबे काल में लेखक ने उनके जीवन और रचनाकर्म को निकट से देखा समझा। इस कारण भी पुस्तक में काल्पनिकता अथवा कयासों के स्थान पर वास्तविक तथ्यों की उपस्थिति पर सहज ही विश्वास किया जा सकता है। एक स्थान पर कवि के एकाकीपन की स्वयं कवि द्वारा ही बड़ी मार्मिक अभिव्यक्ति है। पता चलता है कि जीवन के झंझावातों को जीवटता के साथ झेल जाने वाला महान कवि अंदर से बहुत व्यथित था और व्यथा को चुपचाप सहे जा रहा था। त्रिलोचनजी के विचारों का केन्वास बहुत विस्तृत था।कालिदास, तुलसी, शेक्सपीयर, गुरुदेव रवीन्द्र आदि से लेकर लेनिन, मार्क्स, स्वामी विवेकानंद के बारे में उनसे कोई भी घटों बात कर सकता था” (पृ 24)। लेखक के अनुसार शास्त्रीजी नई कविता के रूपवादी स्वरूप से बच कर निकल जाते हैं। उनका स्वर ग्राम चेतना से संपृक्त है। इस अध्याय में लेखक को वे कवि से अधिक भाषाशास्त्री दिखाई देते हैं।
अध्याय चार में लेखक ने त्रिलोचनजी की अवधी कविताओं का, उनके अवधी काव्य-संग्रहअमोलाके आधार पर गहन विश्लेषण किया है। पूर्णतः लोक से उपजी उनकी विषयवस्तु, प्रयुक्त भाषा और लेखक पर तुलसीदासजी के प्रभाव का चित्रण किया है। यहाँ शास्त्रीजी की विशिष्ट अवधी भाषा पर डा.विश्वनाथ त्रिपाठीजी से लेखक का मतवैभिन्य दिखाई देता है। लेखक के अनुसार कालांतर में शास्रीजी ने अपनी लोकभाषा को कुछ सरल किया है ताकि वृहद पाठक वर्ग उसे समझ सके। इसे लेखक उनकी प्रगतिशील सोच का एक प्रमाण मानता है।
पंचम अध्याय में त्रिलोचनजी के कविता में ग्राम्य जीवन चित्रण के बारे में विस्तार से चर्चा की गई है। इस तथ्य की ओर इंगित किया गया है कि शास्त्रीजी की हिन्दी कविता में भी अवधी के शब्दहीरे की तरह जड़े हुए हैं
लेखक अपने विश्लेषण से इस निष्कर्ष पर पहुंचता है कि शास्त्रीजी मार्क्सवादी हों या न हों, वे व्यापक मार्क्सवादी चेतना को स्वर देने वाले रचनाकार हैं। इस अध्याय में लेखक ने त्रिलोचनजी की ग्राम्य जीवन से जुड़ी कविताओं से अत्यंत जीवंत चित्र उद्धृत किए हैं। इन पृष्ठों से गुज़रते हुए प्रतीत होता है कि त्रिलोचनजी की कविताओं में सामाजिक सरोकार किसी उग्र क्रांतिकारी वेष में नहीं हैं पर वे वहाँ हैं, सहज रूप में उपस्थित।
छठे और सातवें अध्याय में त्रिलोचनजी की गद्य भाषा पर विचार किया गया है। आश्चर्य होता है यह जानकर कि वे अपनी भाषा के प्रति इतने सजग थे कि उनकी कई कविताओं में उन्होंने भाषा, शब्द आदि के बारे में गहराई में जाकर लिखा है जो संभवतः किसी भी अन्य कवि ने नहीं किया है। लेखक के शब्दों में उनकी काव्य भाषा संस्कृत, उर्दू, अरबी, फारसी, अंग्रेजी जैसी अनेक भाषाओं से निर्मित होती है लेकिन अवधी उनकी मातृभाषा है, अवधी का लोक जीवन उनका अपना अनुभव लोक है। भाषा के क्षेत्र में शास्त्रीजी तुलसी को अपना आदर्श मानते हैं और उन्हीं के पद्चिन्हों पर चलते हैं।
मात्र एक सौ चार पृष्ठों की पुस्तक त्रिलोचनजी के सम्पूर्ण रचनाकर्म और व्यक्तित्व का विस्तृत लेखाजोखा नहीं हो सकती। किंतु इसमे उनके जीवन और सृजन के सभी आयाम बीज रूप में उपस्थित हैं। ये बीज भविष्य में शोधकर्मियों के हाथों पल्लवित होकर इस अद्भुत व्यक्तित्व का विस्तृत परिचय साहित्य जगत को उपलब्ध करा सकते हैं। इस अर्थ में यह पुस्तक महत्वपूर्ण है। पुस्तक लेखन निश्चय ही श्रमसाध्य कार्य रहा होगा। इस महत्वपूर्ण पुस्तक के प्रकाशन के लिए लेखक और उत्तरप्रदेश हिन्दी संस्थान दोनों बधाई के पात्र हैं।
*                         *                       *                     *


पुस्तक- ‘त्रिलोचन शास्त्री’, लेखक डा.भारतेन्दु मिश्र, प्रकाशक- उत्तरप्रदेश हिन्दी संस्थान, लखनऊ, प्रथम संस्करण – 2018, मूल्य- रु 105/-
                                                   राजेन्द्र नागदेव
                                                   डी के 2 – 166/18, दानिशकुंज
                                                   कोलार रोड, भोपाल-  462042
                          मो 8989569036, ईमेल- raj_nagdeve@hotmail.com





  

सोमवार, मई 14, 2018




समीक्षा -
"पठार पर रंगोली"
# भारतेंदु मिश्र 

नवगीत की सर्जना में कवयित्रियों के नाम बहुत कम हैं, फिर भी शान्ति सुमन,राजकुमारी रश्मि,इंदिरा मोहन,शरद सिंह ,पूर्णिमा वर्मन,रजनी मोरवाल,यशोधरा राठौर जैसी नवगीत कवयित्रियाँ हमारा ध्यान बरबस अपनी ओर आकर्षित करती हैं|इसी नवगीत की परंपरा में कुछ दिनों से मालिनी गौतम के नाम की भी चर्चा हो रही है|‘चिल्लर सरीखे दिन’ मालिनी गौतम के नवगीतों की पहली पुस्तक है|इसमें 55 गीत नवगीत संकलित हैं,जिनमें अधिकाँश गीत भाषा और छंद की दृष्टि से निर्दोष हैं|जीवन में हम सबको छोटी छोटी खुशियों की ही तलाश रहती है|कवयित्री मालिनी गौतम को घर में ही कविता का सार्थक संस्कार अपने पिता से मिला जो आज उनकी काव्य भाषा और रूपकों में देखा जा सकता है|यू तो मध्य प्रदेश की सांस्कृतिक धरती पर नवगीत जितना फला फूला और उसकी समझ विक्सित हुई उतना किसी अन्य प्रदेश में संभव नहीं हो पाया|संयोगवश मालिनी जी को इसी मध्यप्रदेश की मोहक सांस्कृतिक छवियों वाली काव्य भूमि विरासत में मिली|अपनी जिज्ञासा और पढाई लिखाई के परिश्रम से कवयित्री ने अपनी काव्य अनुभूतियों को मांजा और बेहतरीन ढंग से चमकाया है|ये नवगीत मालिनी गौतम की सजग काव्य चेतना का प्रकटीकरण हैं|वे कविता की अनेक विधाओं में लिखती हैं|
आज इक्कीसवीं शताब्दी के दूसरे दशक में जब मनुष्य संवेदना की बात लगभग बेमानी हो गयी है तब मालिनी गौतम अपनी सशक्त नवगीत सर्जना से नवगीत प्रेमियों को न केवल आश्वस्त करती हैं बल्कि किसी हद तक चकित भी करती हैं| संयोगवश संकलन के अंतिम गीत पर मेरी नजर पहले पडी,फिर सभी गीत पढ़ने का मन बनाता गया|अन्तिम गीत  का अंश देखिये-
झूठ दौड़ता पहन जूतियाँ /अफवाहों की
बातें करती कानाफूसी/घर घर जाकर
छल की भाषा शोर मचाती /मौक़ा पाकर
भटक रहीं हैं आवाजें /सच की आहों की|(पृ-96)
ये जो अफवाहों की जूतियाँ कवयित्री ने झूठ को पहना दी हैं असल में यही नवगीत की अंतर्चेतना है| एक शब्द या एक रूपक के निर्वाह भर से ही कविता में जो अर्थ की छवि उद्भासित होती है वही रचनाकार की शक्ति का पता बता देती है|ऐसे अनेक नवगीत इस संकलन में दिखाई देते हैं जिनमें नई सदी की कविता का मुहावरा धड़कता है|ये नवगीत छंद और लय की दृष्टि से भी प्रवाह संपन्न हैं| संकलन के शीर्षक नवगीत का अंश देखिये-
हाँथ में हैं शेष /कुछ चिल्लर सरीखे दिन
हडबडाती जिन्दगी/इक रेल सी गुज़री
चाहतों के स्टेशनों पर/चार पल ठहरी
उम्र के खाली कपों में /घूँट से पल-छिन |(पृ-11)
असल में जिन्दगी का फलसफा कवयित्री को बखूबी मालूम है और वह हडबडाते समय को धैर्य पूर्वक सहज मन से जी लेने के लिए तत्पर भी है| यह तत्परता ही उसे नास्टेल्जिक होने से बचाती है| प्राय: जो अतीत का रोना लेकर गीत लिखे जाते हैं उनसे कवयित्री का स्वर कदाचित भिन्न है| कवयित्री कविता में यथास्थिति तक सीमित होकर नहीं रह जाती बल्कि वह अपने सामर्थ्य और समझ से समाधान और उपाय भी बताती है-
‘वक्त कबसे कैद है /कब तलक सोओगे तुम/अब उठो घंटा बजाओ|’(पृ-16)
इसी क्रूर समय में हमारे जीवन की दुर्दशा हमारे ही कुछ ठग साथी कर रहे हैं |हमारे जीवन की सहज गति को रोकने के लिए वे कीलें बिखरा कर हमारे पहियों में पंक्चर करने से भी बाज नहीं आते|फिर भी संवेदना का घाव लिए हुए मनुष्य अनंत की यात्रा पर बढ़ता जा रहा है|कवयित्री मालिनी गौतम के पास जीवन और जगत के यथार्थ को अभिव्यक्त करने की सटीक भाषा संवेदना भी है|नवगीत का एक अंश देखें-
खुरच खुरच कर खोद रहा है/वक्त हमारे घाव/
यहाँ वहाँ बिखरी कीलों ने /पंक्चर किये तमाम
कैसे घूमे पहिया कोई /लगे जाम पर जाम
सिग्नल सारे टूटे जब जब /उनपर बढ़ा दबाव|(पृ-34 )
कवयित्री के मन में खेतिहर किसान की समस्याओं के स्वर भी घुमड़ते हैं,इसलिए वह धरती और बादल के बिम्ब लेकर संबंधो की खेती करने का सहज प्रयास करती है-
ऊसर धरती पर /चाहत के बीज उगा दूं
एक उदासी/ खाट डालकर कब से सोयी
खाली कोनों में /खुशियों की चिड़िया रोयी
खालीपन को झाड़ पोंछकर/आज सजा दूं|(पृ-82)
सहज कविता तो जीवन और जगत के प्रेम से ही निकलती है|मालिनी जी के इन नवगीतों का सौन्दर्य  इनकी लोक धर्मी चेतना से पथरीले यथार्थ की जमीन पर अल्पना सजाने जैसा है| ये पठार पर रची गयी रंगोली जैसे आकर्षक हैं| जिनके मन की अटारी खाली हो वह उसे भरने की कोशिश अवश्य करता है|प्रेम की झीनी चदरिया बुनने की कोशिशें करने वाले सजग रचनाकार ही मनुष्यता को भटकाव से बचा सकते हैं|किसी बड़े आलाप- विलाप, पक्ष -विपक्ष के बिना, सहज ढंग से रचे गए मालिनी गौतम के ये नवगीत नई सदी की नवगीत सर्जना का नया प्रस्थान बिंदु प्रतीत होते हैं|अंतत: कवयित्री के इस पहले नवगीत संग्रह का मैं हृदय  से स्वागत करता हूँ| बोधि प्रकाशन को भी इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई|
शीर्षक:चिल्लर सरीखे दिन/कवयित्री: मालिनी गौतम/प्रकाशन: बोधि प्रकाशन,जयपुर/मूल्य:100/वर्ष:2017
संपर्क:
भारतेंदु मिश्र
सी-45/वाई-4 ,दिलशाद गार्डन,दिल्ली-11 00 95

रविवार, नवंबर 19, 2017





पथराई आकांक्षाओं के नवगीत स्वर
# डॉ.भारतेंदु मिश्र

गत माह नवगीत और गजल पर केन्द्रित हिन्दी साहित्य सम्मलेन की उमरिया शाखा के आयोजन में भाग लेने का अवसर मिला|यहीं पहली बार अनेक सुधीजनों तथा  कवियों के बीच अग्रज महेश कटारे सुगम जी से भी मुलाक़ात हुई|हालांकि उन्हें फेसबुक के माध्यम से पहले से  जानता था,और उनकी बुन्देली गजलों का पाठक और प्रशंशक भी हूँ| यहाँ मिलकर उन्हें पहचानने और उनकी रचनाशीलता को चीन्हने में सहायता मिली|वहीं मुझे पता लगा कि महेश जी नवगीत भी लिखते हैं|मंच से जब उन्होंने अपने नवगीत प्रस्तुत किये तब उनके रचनाकार के प्रति और भी आश्वस्ति हुई|विदा होते समय उन्होंने मुझे 'तुम कुछ ऐसा कहो ' शीर्षक अपना नवगीत संग्रह भी भेंट किया| इस नवगीत संग्रह में  छप्पन नवगीत संकलित हैं|इनमे से अधिकाँश में अपनी युगधर्मिता और सामयिकता से से टकराहट के स्वर गूंजते हैं|असल नवगीत की पूंजी वही है जो समय के दर्द के साथ करुण स्वर  में पर्यवसित हो जाए-
तुम रंगमहल के हो प्रकाश
मैं टिमटिम लौ फुटपाथों की|
मेरी मरियल सी आशाएं
तेरी पहाड़ सी इच्छाएं
तेरा जल कुल तो सीमित है
हर जगह हमारी शाखाएं
फिर भी मैं नाचा करता हूँ
कठपुतली बनकर हाथों की||
ऐसी अभिव्यक्ति से कौन न आकर्षित हो जाए|राग और विडम्बना का मार्मिक स्वर हमें खीच लेता है|असल में महेश जी ललितपुर से सागर पहुचे हैं|उन्हें बुन्देली समाज की अभावग्रस्त जीवन शैली का अभ्यास है|इस लिए इन पंक्तियों में भी पहाड़ और जल दोनों का नैसर्गिक अभाव और प्रभाव उन्हें नवगीत रचने के लिए प्रेरित करता है|अपनी विसंगति की और भी कवी ध्यान दिलाता है कि वह बस कठपुतली बनकर रह जाने के लिए विवश है| कवि की नवगीत चेतना को और अधिक निकट देखने के लिए अनेक नवगीत उद्धृत किये जा सकते हैं लेकिन उनके कमरे का बिम्ब अत्यंत मार्मिक है|इस तरह के कमरे को ही खोली भी कहा जाता है-
ये हमारा घर
बहुत सीलन भरा
उबकाइयां लेता  हुआ बस एक कमरा|
इस एक घर के कमरे में ही कवि की पूरी गिरिस्ती समाई हुई है|इसी कमरे में एक कोने में सिंगडी है,नन्हे के जूते,चारपाई और फटा गद्दा है,एक और भगवानो की भी अलमारी है| एक मार्मिक व्यंग्य देखिये-
तोड़ने के वास्ते
फेके गए पत्थर
डालियों पर लटक कर
रहा गए हैं
आम के फल तो
कभी के झड गए हैं|
ये पथराई आकांक्षाओं के स्वर ही तो मूलत: नवगीत का स्वर है|महेश जी के पास नवगीत की सधी हुई भाषा और लय की नवता  दोनों प्रकार की रचनात्मक पूंजी विद्यमान है|इस बिम्ब को देखकर लगता है कि कवि के साथ कहीं हम सब किसी फलदार पेड़ की डाल पर  फेके गए पत्थर की तरह लटके हुए हैं|कहने को और भी बहुत कहा जा सकता है लेकिन संग्रह का अंतिम नवगीत  'अम्मा 'अपने आप में एक कोलाज कीतरह महेश जी ने गढा है, अंतिम बंद देखिये  -
खुशियों के पैबंद मुसीबत की कीलें
भाव रहित चहरे को नहीं बदल पाते
दर्दों के अहसास
अभावों के तूफाँ
भावों के आगन में नहीं टहल पाते
अनुभव की चादर
मन की हरियाली से
खुश रहने की भाषा उनको भाती है
रिश्तों वाली पौध
प्रेम के पानी से
सिंचित कैसे करें नीति ये आती है
झुकी कमर ले तनी खडी हैं
इक अनबूझा पहेली अम्मा|
घर में नहीं अकेली अम्मा||
झुकी कमर के साथ कोई तन कर कैसे खडा हो सकता है ये हुनर या तो कवि जानता है या उसकी अम्मा को पता है|अंतत: यद्यपि यह उनका पहला नवगीत संग्रह है लेकिन किसी भी नवगीत के बड़े हस्ताक्षर की तुलना में उनके नवगीत कतई कमतर नहीं हैं|अग्रज भाई महेश कटारे सुगम जी की रचनाशीलता नवगीत के क्षेत्र में और अधिक विकसित ,चर्चित हो इसी आशा के साथ  उन्हें बधाई|
#################################################################################
शीर्षक: तुम कुछ ऐसा कहो,/कवि : महेश कटारे सुगम,/प्रकाशन वर्ष;2012  /प्रकाशक:निरुपमा प्रकाशन,शास्त्री नगर मेरठ/मूल्य:रु 150 /
कवि संपर्क:0 97 13 0 2  43 80



शुक्रवार, नवंबर 10, 2017

कुमुदेश जी की स्मृति को प्रणाम
#:भारतेंदु मिश्र

प्रसिद्ध छंदकार अग्रज अशोक कुमार पाण्डेय अशोक जी लखनऊ के शताधिक छंदोबद्ध कवियों के काव्य गुरु हैं | हिन्दी खड़ीबोली में घनाक्षरी का जैसा सुन्दर प्रयोग वे करते हैं वैसा कम ही आधुनिक कवियों की कविताई में देखने को मिलता है|पिछली लखनऊ यात्रा में उन्होंने अपने पिताश्री स्व.गोमती प्रसाद पाण्डेय कुमुदेश जी की रचनावली भेंट की ये पुस्तक अनेक कारणों से मेरे लिए संग्रहणीय है|कुमुदेश जी के सभी चारों पुत्र क्रमश:अशोक कुमार पाण्डेय,विजय कुमार पाण्डेय,महेश कुमार पाण्डेय और शरद कुमार पाण्डेय सभी छंदोबद्ध कविता के कौशल से संपन्न सुकवि तो हैं ही,मेरी युवावस्था के मित्र और सहचर भी रहे हैं|युवारचनाकार मंच की सभी गतिविधियों में इन सभी की भागीदारी होती थी|मुझे इस कवि परिवार से भाई आवारा नवीन जी ने ही जोड़ा था|बहरहाल ये रचनावली हिन्दी छंद विधा के रचनाकारों के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज है|इसमें कविवर कुमुदेश जी की सभी पांच कृतियों-कुमुदावाली,तुलसी रत्नावली,मालती,वनमाला और जाग्रति को समाविष्ट किया गया है|उनका जन्म 15 नवंबर 19 23 को हुआ और मात्र 55 वर्ष की अवस्था में ही 7 सितम्बर 19 78 को उनका देहांत हो गया|वे निशंक जी के अत्यंत प्रिय कवि थे|सुकवि,साप्ताहिक हिन्दुस्तान,धर्मयुग,स्वतन्त्र भारत आदि में लगातार उनके कवित्त प्रकाशित होते थे| जब एक और छंदहीनता और मुक्तछंद कविता की वकालत की जा रही थी तब कुमुदेश जैसे कवियों ने ही छंदोबद्ध कविता की आंच को सुरक्षित रखा|निशंक जी उनके बारे में लिखते हैं-'कुमुदेश जी के सवैये बड़े मार्मिक और चुटीले हैं |वे ब्रजभाषा एवं खड़ीबोली दोनों में ही कवित्त घनाक्षरी और सवैया छंद लिखने में सिद्ध हस्त थे|'सनेही,हितैषी जी की परंपरा में लोग आज भी उन्हें याद करते हैं| मित्रो के लिए उनकी अंतिम कविता इस प्रकार है-
चोट जब भी लगी खा के गम रह गये
झेलते नित सितम पर सितम रह गये
लोग जाने कहाँ से कहाँ बढ़ गए
और हम देखते अधिनियम रह गये |
इन्ही शब्दों के साथ उनकी स्मृति को प्रणाम|

बुधवार, अक्तूबर 25, 2017

इतिहास में दर्ज हुआ आदिवासी क्षेत्र में साहित्यकारों का जमावड़ा
“नवगीत और गज़ल पर केन्दित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं
रचनापाठ के निमित्त उमरिया में जुटे थे देश भर के मूर्धन्य साहित्यकार
(14-15 अक्टूबर -2017)
 विस्तृत रपट-


उमरिया || पूर्वी मध्यप्रदेश के छोटे से आदिवासी बाहुल्य उमरिया जिले में नवगीत एवं गज़ल पर केन्द्रित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं रचनापाठ के निमित्त देश भर के साहित्य मनीषियों का जमावड़ा एक ऐतिहासिक परिघटना बन गया। पत्रकारों के सवालों के जवाब में वरिष्ठ कवि और म.प्र. शासन में अतिरिक्त सचिव राजीव शर्मा के बयान ने जैसे इस पर मुहर लगा दी। राजीव शर्मा ने कहा -‘‘ नवगीत एवं गज़ल पर आगे जब भी विमर्श होगा उमरिया में संपन्न हुई राष्ट्रीय संगोष्ठी का संदर्भ अवश्य दिया जायेगा। बौद्धिकता और रचनात्मकता से परिपूर्ण यह गरिमामयी आयोजन इतिहास में दर्ज हो चुका है” |  
                 नवगीत और गज़ल पर राष्ट्रीय संगोष्ठी और रचनापाठ का यह दो दिवसीय आयोजन दिनांक – 14-15 अक्टूबर 2017 को म.प्र. हिन्दी साहित्य सम्मेलन की उमरिया जिला इकाई द्वारा किया गया था। जिसका उद्घाटन वरिष्ठ कवि डॉ. दिनेश कुशवाह, हिन्दी विभागाध्यक्ष अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय रीवा ने किया। अध्यक्षता, वरिष्ठ और बहुचर्चित गज़लकार महेश कटारे सुगमने किया। ख्यातिलब्ध समालोचक भारतेन्दु मिश्र, वरिष्ठ साहित्यकार पारस मिश्र, राजीव शर्मा, डॉ. चन्द्रिका प्रसाद चन्द्र  डॉ.आर.पी.तिवारी और डॉ. परमानंद तिवारी और बतौर विशिष्ठ अतिथि उपस्थित रहे। स्वागत भाषण सम्मेलन की उमरिया इकाई के संरक्षक डॉ. रामनिहोर तिवारी ने और उद्घाटन सत्र का संचालन सम्मेलन की उमरिया इकाई के अध्यक्ष संतोष कुमार द्विवेदी ने किया। मुख्य अतिथि की आसंदी से बोलते हुए डॉ. दिनेश कुशवाह ने बड़ी बेबाकी से गीत की विशेषताओं के साथ उन मर्यादाओं और ठहराओं पर तीखा कटाक्ष किया, जिसके कारण साहित्य में नवगीत आंदोलन का आरंभ हुआ।
विमर्श में साहित्य के वैश्विक परिदृश्य को समेटते हुए आपने याद दिलाया कि इतिहास, विचार और कविता के मृत्यु की घोषणा को क्या हम भूल सकते हैं? इस तरह की घोषणाएं करने वाले और उसकी शवयात्रा में शामिल होने वाले कौन लोग हैं? हमें उन्हें पहचानना होगा। आपने चेताया कि इतिहास, परंपरा बोध और कविता न मरी है न मर सकती है। कविता समाज के सामूहिक संवेदना की मार्मिक अभिव्यक्ति है। अपने विस्तृत और विद्वत्तापूर्ण व्याख्यान में आपने समकालीन नवगीत और गज़ल के लिए नये बिम्ब, नये प्रतीक, नई भाषा और नये शिल्प विधान के साथ ही साथ आम आदमी के शोषण और संत्रास के खिलाफ स्वर को अनिवार्य शर्त बताया। डॉ. परमानंद तिवारी ने नवगीत को नई पीढ़ी का काव्य बताया तो डॉ. आर.पी.तिवारी ने कहा कि निराला ने ‘‘नव गति नव लय ताल छंद नव’’ गाकर जिस काव्य परंपरा का पूर्व में उद्घोष किया था, उसे ही आज के नवगीतकारों ने एक नया मकाम दिया है। डॉ. चन्द्रिका प्रसाद चन्द्रने इस राष्ट्रीय संगोष्ठी को गलत समय पर उठाया गया सही कदम बताया। ‘‘राजा ने कहा रात है, मंत्री ने कहा रात है, संत्री ने कहा रात है, यह दोपहर की बात है’’ उद्धृत करते हुए आपने कहा कि जब सच का दम घोटा जा रहा हो तब पुरातन के व्यामोह से निकलकर नये कलेवर और नए तेवर के गीत गाने होंगे।
                    उद्घाटन सत्र के अध्यक्ष समकालीन भाषाई गज़ल और हिन्दी नवगीतों के बहुचर्चित रचनाकार महेश कटारे सुगमने असहाय और अभावग्रस्त सामान्य जन की
पीड़ा, शोषण और अन्याय को मुखरित करना ही साहित्य सृजन का वास्तविक हेतु माना।
           संगोष्ठी के पहले विमर्श सत्र ‘‘नवगीत की परंपरा: दशा और दिशा’’ पर मुख्य वक्ता यशस्वी गीतकार और समालोचक डॉ. भारतेन्दु मिश्र ने कहा कि ‘‘हर गीतनवगीत नहीं होता लेकिन हर नवगीत में गीत के तत्व होना आवश्यक है। नवगीत युगीन यथार्थ को अभिव्यक्त करने का सशक्त माध्यम है। उसे हिन्दी कविता का
मध्यम मार्ग कहा जा सकता है। नई सदी में चर्चित हुए नवगीतकारों में डॉ. मालिनी गौतम, जय चक्रवर्ती, ओम प्रकाश तिवारी, चित्रांश बाघमारे, यशोधरा राठौर, पूर्णिमा बर्मन, रजनी मोरवाल, विनय मिश्र, वेद प्रकाश शर्मा आदि के नाम उल्लेखनीय हैं। नवगीतकारों ने लोकभाषा और लोकजीवन के सरोकारों को अपनी अभिव्यक्ति का माध्यम बनाया। वह छायावादी गीत से पर्याप्त भिन्न है। नवगीत की अपनी अलग पहचान है। कुल मिलाकर नवगीतकार ही हिन्दी कविता की समावेशी अवधारणा का पर्याय है। आपने माना कि नवगीत की परंपरा निराला से शुरू होती है और वही इसके जनक हैं।
              इस सत्र के हस्तक्षेप में नई पीढ़ी के बहुपाठित गीतकार राजीव शर्मा ने कहा कि नवगीत लोकजीवन को कविता का विषय बनाने और उसे कविता से जोडऩे की महत्त्वपूर्ण कड़ी हैं। नई कविता की सपाटबयानी और दुरूहता से ऊबे पाठकों को रस और संवेदना की अनुभूति नवगीतों से मिली। लेकिन नवगीत भी अब उसी के शिकार हो रहे हैं जो चिन्ता का विषय है। डॉ. अमोल बटरोही ने कहा कि मौजूदा समय के कथ्य, शिल्प और प्रतीकों के कारण नवगीत एक अलग तेवर अख्तियार करते हैं। अन्यथा लयात्मकता और गेयात्मकता गीतों मे भी है और नवगीतों में भी है।  इस सत्र की पूरी चर्चा को समेटते हुए वरिष्ठ गीतकार कुमार शैलेन्द्र ने ध्वनि, रस और छन्दों के संबंध में बताते हुए भारतीय चिन्तन परंपरा एवं सृजन धारा का विस्तृत निरूपण किया। आपने कहा कि आलोचक भले ही नवगीत को खारिज करें अथवा हाशिये की कविता कहें वे हमेशा रहेंगे पढ़े, सुने, गाये और गुनगुनाये जायेंगे। इस सत्र का संचालन सम्मेलन की उमरिया इकाई के सचिव अनिल कुमार मिश्र ने और आभार प्रदर्शन वरिष्ठ कवि शंभू सोनी पागलने किया।
                      पहले दिन के दूसरे सत्र ‘‘नवगीत में लोकतत्व’’ की अध्यक्षता नवगीत के सशक्त हस्ताक्षर वेदप्रकाश शर्मा ने की तथा वरिष्ठ गीतकार शिवकुमार अर्चनने मुख्य वक्तव्य दिया। श्री अर्चन ने कहा कि नवगीत छायावादोत्तर कविता की प्रमुख धारा के रूप में उभरा। 1941 से 1950 के दशक में कविता के दो रूप दिखाई देते हैं। पहला पारंपरिक छन्दोबद्ध कविता दूसरा परंपरा भंजक, प्रयोग और प्रगतिवादी कविता। 1950 से 60 वाले दशक में कविता की सभी धाराएं एक मंच पर थीं। इसी को नयी कविता कहा गया। इसमें गीत काव्य भी था। अज्ञेय ने जिसे नई कविता का गीत कहा। बाद में इसी धारा के विकसित रूप को नवगीत कहा गया। आपने लोक की विस्तृत व्याख्या करते हुए कहा कि नवगीत ने न सिर्फ लोकचेतना और मानवीय सरोकारों की पक्षधरता सिद्ध की है अपितु लोक संवेदना और लोक रंजन से लेकर लोक मंगल तक की यात्रा तय की हैं। नवगीतों में आम आदमी के दुख, दर्द, घुटन, गरीबी, भुखमरी, बेरोजगारी आदि की त्रासदी को गीतों का विषय बनाया गया और जनसंवाद धर्मिता अपनाई गई।
                   आपने ध्यान दिलाया कि यह स्थिति 80 के दशक के बाद बरकरार नहीं रह पाई । गीत लोकचेतना और लोकजागरण का वाहक नहीं रहा। वह जनसाधारण से कटने लगा। इसके पीछे कविता का वाचिक परंपरा से कटना भी था। इसके अलावा बाजारवाद, भूमण्डलीकरण, के बाह्य दबावों जीवनानुभव की कमी जनजीवन व जमीन से अलगाव जैसी कई अहम वजहें हैं।
             इस सत्र में प्रमुख नवगीतकार डॉ. मालिनी गौतम ने सार्थक हस्तक्षेप किया। डॉ. मालिनी गौतम ने कहा कि लोक में व्याप्त चेतना के आधार पर लोकधर्मी गीत की शिनाख्त करनी होगी। लोक में नगरीय जीवन और बौद्धिक मनुष्य की उपेक्षा नहीं की जा सकती। रोजी रोटी की तलाश में लोग नगरों की ओर पलायन करते हैं लेकिन उनके लौकिक संवेग उनके अंतस्थल में सुरक्षित रहते हैं। नवगीत ने उन्हें खुरचा, देखा, उनसे संवेदना के स्तर पर जुड़ा और उन्हें अपना विषय बनाया। आपने आरोप लगाया कि साहित्य की बागड़बन्दी के कारण लोक उपेक्षित हुआ है। अभिजात्य उसके केन्द्र में आ बैठा है। हमें इस जड़ता को तोडऩा होगा। आपने कहा कि नवगीत में लोक चेतना लोकगीतों और लोकधर्मी उत्सवों से आती है, लोक मन और लोक व्यवहार से आती है, गली-गली घूमते साधुओं-फकीरों की सधुक्कड़ी और सूफियाना गायन से आती है, हमारी समावेशी सांस्कृतिक विरासत जिसमें अक्षत-रोली, चंदन-कुंकुंम, मंगल घट, गोरोचन, मस्जिद की अजान और मंदिर की घंटा ध्वनि जैसी तमाम चीजें समाहित हैं, उनसे आती है। आपने जोर देकर कहा कि प्रकृति और लोक संस्कृति के आसव से पगे नवगीत लोकतत्व के सच्चे वाहक हैं।
           डॉ. राम गरीब विकल ने उद्धरणों के साथ नवगीतों में लोकतत्व की प्राण प्रतिष्ठा के कई सुन्दर उदाहरण प्रस्तुत किए। उन्होंने नवगीतों में लय और छंदबद्धता की वकालत की। अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में नवगीत के सशक्त हस्ताक्षर वरिष्ठ कवि वेद प्रकाश शर्मा ने उद्घाटन सत्र से लेकर अब तक की चर्चा को समेटते हुए कई तल्ख टिप्पणियाँ कीं तथा नवगीत के समष्टिपरक दृष्टिकोण और भूमिका को स्पष्ट किया। आपने नवगीतकार देवेन्द्र शर्मा इन्द्रके नाम का उल्लेख करते हुए सवाल किया कि नई कविता वाले इस दौर के समर्थ व सशक्त नवगीतकारों को आखिरकार क्यों नहीं पढ़ते? यही नहीं नवगीतो में बिम्ब और प्रतीकों की दुरूहता के आरोप को लक्षित करते हुए पूछा कि क्या नवगीत के बिम्ब और प्रतीक मुक्तिबोध की रचनाओं से भी दुरूह हैं।
                    आपने कहा कि कविता की आत्मा सौन्दर्य है तथा इस सौन्दर्य की रक्षा छायावाद के कवियों ने जिस सुरुचिपूर्ण-सुसंस्कृत रूप से की है नवगीत ने युग यथार्थ के सम्यक बोध के साथ उसे कायम रखा है। नवगीत ने अपने समय के सामाजिक यथार्थ को समग्रता के साथ भिन्न-भिन्न रूपों में देखा है और इस प्रकार वह उसी ठोस  धरातल पर खड़ा है जिसका गुणगान करते हुए नई कविता नहीं थकती। इस सत्र का संचालन युवा गीतकार राजकुमार महोबिया ने तथा आभार प्रदर्शन वरिष्ठ कवि रामलखन सिंह चौहान भुक्खड़ने किया।
                                                            
दूसरा दिन गजल के नाम
          दूसरे दिन का विमर्श गजल को समर्पित था। जिसमें “समकालीन गज़ल की दशा और दिशा” तथा “समकालीन गज़ल के बदलते उन्वान” पर जहीन और अजीज शायरों ने अपने विचार व्यक्त किए। पहले सत्र की अध्यक्षता वरिष्ठ गज़लकार कुंवर कुसुमेश ने की तथा मुख्य वक्तव्य वरिष्ठ पत्रकार एवं समालोचक नन्दलाल सिंह ने दिया। नन्दलाल सिंह ने समकालीन गज़ल की परंपरा को रेखांकित करते हुए उसके बदलते तेवरों को उद्धरणों के साथ स्पष्ट किया। आपने कहा कि समकालीन गज़ल ने सामाजिक कुरीतियों से लेकर धार्मिक, राजनीतिक व्यवस्था, शोषण और विषमता पर जिस साहस और सलीके से तंज कसे हैं वैसी बेबाकी अन्यत्र दुर्लभ है। इस सत्र में डॉ. नीलमणि दुबे ने हस्तक्षेप किया और कबीर से लेकर मौजूदा दौर की गज़ल के हवाले से स्पष्ट किया कि गज़ल का भविष्य उज्ज्वल है और अब तो वह भाषा का बैरियर तोडक़र लोकव्यापीकरण की ओर बढ़ रही है। युवा गज़लकार नजर द्विवेदी ने गज़ल में हिन्दी और उर्दू की जंग को बेमानी बताया | कथाकार, समालोचक संदीप नाइक ने कहा कि अपनी बात स्पष्ट करने के लिए शेर उधृत करना गजल की लोकप्रियता और जन स्वीकृति दर्शाता है |
           अपने अध्यक्षीय वक्तव्य में वरिष्ठ गज़लकार कुंवर कुसुमेश ने कहा कि गज़ल की बहर हर गज़लगो को सीखनी ही चाहिए। मैंने 60 की उम्र में ट्यूशन लगाकर गज़ल का सलीका और शिल्प सीखा। उन्होंने बताया कि गज़ल की 32 बहरें होती है जिनमें से 17 प्रचलित हैं। सम्भव है अभी और बहरों पर गज़लें लिखीं जाएं और उन्हें भी मकबूलियत हासिल हो। इस सत्र का संचालन युवा गज़लकार कुलदीप कुमार ने और आभार सम्मेलन की साहित्य मंत्री मंजु ‘मणि’ ने व्यक्त किया।
                     ‘‘समकालीन गज़ल के बदलते उन्वान’’ विषय पर मुख्य वक्तव्य जहीन शायर अशोक मिजाज ने रखा और अध्यक्षता वरिष्ठ गज़लकार शाहिद मिर्जा ने की। अपने वक्तव्य में गज़लकार अशोक मिजाज ने कहा कि यदि हम गज़ल में बदलते हुए आयामों की खोज करते हैं तो पता चलता है कि यह एक झरना है जिसमें लगातार नवीनता बह रही है। उर्दू गज़ल जो कभी रवायती गज़ल के रूप में थी उसने जदीद गज़ल का रूप ले लिया है। पहले से चले आ रहे अरबी फारसी के शब्दों के स्थान पर आसान उर्दू के शब्दों में आज के प्रतीकों और बिम्बों का प्रयोग किया जाने लगा है।  आज के दौर की उर्दू जदीद गज़ल और हिन्दी गज़ल कहीं-कहीं एक होती दिखाई दे रही । इस दौर के जदीद गज़लकारों के कुछ शेर इस बात की पुष्टि के लिए काफी हैं। तहज़ीब हाफी के शेर देखिए ‘‘तारीकियों को आग लगे और दिया जले, ये रात बैन करती रहे और दिया जले। तुम चाहते हो तुमसे बिछड़ के भी खुश रहूँ, यानी हवा भी चलती रहे और दिया जले”।  इसी तरह मुईन शादाब का एक शेर देखिए तुमसे बिछड़ के सबसे नाते तोड़ लिये थे, हमने बादल देख के मटके फोड़ लिए थे”। इन शेरों में शायरी की वह मुलायमियत और वह विषय भी है जिसके लिए गज़ल जानी जाती रही है लेकिन भाषा हिन्दी गज़ल की है।
                     इस सत्र में हस्तक्षेप करते हुए वरिष्ठ गज़लकार महेश कटारे सुगमने कहा कि गज़ल का दायरा अब हिन्दी उर्दू तक सीमित नहीं बल्कि भाषायी क्षेत्रों में भी उसका विस्तार हुआ है। आपने मौजूदा समय की विसंगतियों और विद्रूपताओं को गज़ल का विषय बनाने और नये प्रतीक गढऩे की हिमायत की। नसीर नाजुक ने पाकिस्तान के शायरों के कुछ शेर उद्धृत कर यह स्पष्ट किया कि हिन्दी और उर्दू गज़ल के बीच कोई सीमारेखा नहीं खींची जा सकती।
               अध्यक्षीय उद्बोधन में शाहिद मिर्जा ने कहा कि अरूजी होना और शायर होना अलग-अलग बातें हैं। ड्रायविंग के लिए गाड़ी की जानकारी और ट्रेफिक नियमों का ज्ञान जरूर होना चाहिए लेकिन मैकेनिक बनना कोई जरूरी नहीं।  जैसे  योग करने के लिए योगाचार्य होने की जरूरत नहीं। हम जिस भाषा का प्रयोग बोलचाल में करते हैं वो हिन्दी या उर्दू नहीं हिन्दुस्तानी जबान है। मात्र लिपि का ही अन्तर है।  
शायरी में आम बोलचाल की सरल भाषा में गहरी बात कही जाए तो आवाम तक जल्दी पहुंच जाती है। इस सत्र का संचालन युवा गज़लकार महेश अजनबीने किया और आभार प्रदर्शन वरिष्ठ कवि जगदीश पयासी ने किया।
नवगीत और गज़लों ने बांधा समां
                उमरिया में संपन्न हुई राष्ट्रीय संगोष्ठी में रात को रचना पाठ का सुरुचिपूर्ण आयोजन किया गया। 14 अक्टूबर की रात को नवगीत का एवं 15 अक्टूबर की रात को गज़ल का पाठ हुआ। देर रात तक चले रचनापाठ का नगर के सुधी                                                     श्रोताओं ने जमकर लुत्फ लिया। नवगीत के रचनापाठ की अध्यक्षता डॉ. दिनेश कुशवाह ने और संचालन वरिष्ठ गीतकार शिवकुमार अर्चनने किया। इसमें भारतेन्दु मिश्र, कुमार शैलेन्द्र, वेदप्रकाश शर्मा, डॉ. मालिनी गौतम, राजीव शर्मा, डॉ. राम गरीब विकलऔर कल्पना मनोरमा ने नवगीत पाठ किया।
               इसी तरह अगली रात गज़ल का पाठ हुआ। जिसकी अध्यक्षता शाहिद मिर्जा ने और संचालन अशोक मिजाज ने किया। गज़ल का आगाज युवा गज़लकार कुलदीप कुमार ने किया फिर क्रमश: राजिन्दर सिंह राज’, गीता शुक्ला, डॉ. नीलमणि दुबे, कासिम इलाहाबादी, महेश कटारे सुगमऔर शाहिद मिर्जा ने अपनी जहीन शायरी से श्रोताओं का भरपूर मनोरंजन किया ।
संगोष्ठी में पांच साहित्यिक कृतियां विमोचित
          संगोष्ठी में पांच साहित्यिक कृतियों का विमोचन किया गया। पूर्णेन्दु शोध संस्थान के संचालक वरिष्ठ कवि पूर्णेन्दु कुमार सिंह के दो काव्य संग्रह ‘‘केसर के सिवान’’ और ‘‘प्रात की रंगोली’’ महेश अजनबीऔर मंजु मणि के प्रथम काव्य संग्रह ‘‘बेसुरी सी बांसुरी’’ वरिष्ठ साहित्यकार विनोद शंकर भावुककी कृति ‘‘सीता जी की
जन्म कथाए’’ डॉ. शिवसेन जैन संघर्षके ‘‘सीमा शतक’’ और वाट्सएप ग्रुप में साझा की गयी चयनित रचनाओं के संग्रह ‘‘उड़ान’’ का विमोचन डॉ. दिनेश कुशवाह, महेश कटारे सुगम, कुमार शैलेन्द्र, भारतेन्दु मिश्र, वेद प्रकाश शर्मा, डॉ. मालिनी गौतम, कुंवर कुसुमेश और शाहिद मिर्जा और द्वारा किया गया।

साहित्यकार बांधव शिखर सम्मानसे अलंकृत
              इस आयोजन में साहित्य,कला और सामाजिक क्षेत्र में विशिष्ट अवदान के लिए रीवा और शहडोल सम्भाग के वरिष्ठ रचनाकारों, रंगकर्मियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं को बांधव शिखर सम्मानसे अलंकृत किया गया। साहित्य के लिए मूर्धन्य संस्कृति मनीषी नर्मदा प्रसाद गुप्त आचार्य’, दयाराम गुप्त पथिक’, डॉ. चन्द्रिका प्रसाद चन्द्र’, पूर्णेन्द्र कुमार सिंह, बाबूलाल दाहिया, डॉ. सत्येन्द्र शर्मा, डॉ. नीलमणि दुबे, डॉ. शिव शंकर मिश्र सरसको, शिक्षा क्षेत्र में जीतेन्द्र शुक्ला और विधिक साक्षरता के लिए यश कुमार सोनी को बांधव शिखर सम्मान से अलंकृत किया गया। इसी तरह रंगकर्म और लोक कलाओं के संरक्षण व संवर्धन के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए नीरज कुंदेर, रोशनी प्रसाद मिश्र, नरेन्द्र बहादुर सिंह और करुणा सिंह को बांधव शिखर सम्मानसे अलंकृत किया गया। 

राष्ट्रीय संगोष्ठी को इन्होंने बनाया सफल
            राष्ट्रीय संगोष्ठी को सफल बनाने में म.प्र. हिन्दी साहित्य सम्मलेन की उमरिया जिला इकाई के संरक्षक डॉ. राम निहोर तिवारी, श्रीशचन्द्र भट्ट,  एम.ए. सिद्दीकी, आत्मा राम शर्मा चातक’ , अध्यक्ष संतोष कुमार द्विवेदी सचिव अनिल कुमार मिश्र, कवि शम्भू प्रसाद सोनी पागल’, राम लखन सिंह चौहान भुक्खड़’, जगदीश पयासी , शेख धीरज , शंकर वर्मन कलारिहा’, राजकुमार महोबिया, शेख जुम्मन, जावेद मियांदाद, महेश अजनबी’, मंजु मणि’, प्रीती थानथराटे, अजमत उल्ला खान, भूपेन्द्र त्रिपाठी, वीरेन्द्र गौतम, दीपम दर्दवंशी, कीर्ति सोनी, सम्पत नामदेव, विनय विश्वकर्मा और रजनी बैगा आदि ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।                                                
                                                          संतोष कुमार द्विवेदी
                                                          अध्यक्ष
                                                          म.प्र. हिन्दी साहित्य सम्मेलन
                                                          जिला इकाई-उमरिया
                                                          वार्ड नं-14, विकटगंज, जिला - उमरिया (म.प्र.)
                                                          पिन 484661
                                                          मो. 9425181902


ई मेल – santoshjiumr@gmail.com