सोमवार, जनवरी 07, 2019

अवधी मुहावरों के नवगीतकार को श्रद्धांजलि

Image result for कुमार रवीन्द्र
(10-जून 1940---3 जनवरी 2019 )


# भारतेंदु मिश्र 

डॉ. शंभुनाथ सिंह जी ने 'नवगीत दशक -2 ' के लिए जिन नवगीतकारों का चयन किया उनमें लखनऊ  में 10 जून 1940 को जन्मे कुमार रवीन्द्र जी भी शामिल थे| उनके नवगीत अपनी अवधी मुहावरे दानी और कबीर दासी चेतना के लिए अलग से पहचाने जाते हैं|गत तीन चार दशकों से लगातार जो कवि अपने गीतों नवगीतों से हिन्दी  कविता में अपनी उपस्थिति दर्ज करता आ रहा है ।जिसने अपने गीतों के पाठ्य  से अपनी अलग पहचान बनाई उनके गीतों को लेकर विचार करते हुए यह कहा जा सकता है उन्होने लगातार प्रगतिशील गीत / नवगीत को नए आयाम दिए।ऐसे कवि कुमार रवीन्द्र उन तमाम नवगीतकारों से इस लिए भी अलग हैं क्योकि वे कविसम्मेलनों से कभी जुडे नहीं ।उन्होने आलाप और सुर की साधना न करके गीत के पाठ्य को लेकर सजगता से काम किया। उनकी मौलिकता का प्रमाण उनके गीतों की प्रगतिशील चेतना और युगधर्मिता से आंका जा सकता है। पिछले दशक में मैने अपने आवास पर प्रयोग के तौर पर कुछ कवियों के एकल गीतपाठ के कार्यक्रम आयोजित किए जिसमें श्रोताओं को कवि से उसकी रचना धर्मिता पर प्रश्न पूछने का भी अधिकार था। ऐसे कार्यक्रम में जाहिर है कि अधिक कवि/श्रोता नहीं शामिल हो सके लेकिन गीत के पाठ्य को लेकर कुछ सजग कवियों ने उसमें भागीदारी की कुमार रवीन्द्र उनमे से एक महत्वपूर्ण नाम हैं।उस प्रकार के आयोजन का भी यही उद्देश्य था कि गीत के पाठ्य और सामयिक रचनाविधान तथा कवि  की रचनाधर्मिता  पर बातचीत हो।कुछ लोग आलोचना से डरकर ऐसे आयोजनों में शामिल नहीं होते।बहरहाल कुमार रवीन्द्र जी ने उस दिन अपनी रचनाधर्मिता और वैचारिक प्रगतिशीलता से सबका मन मोह लिया था।  वे वरिष्ठ हैं, विद्वान हैं-उनके लिखे गीतों और विमर्श परक आलेखों का अपना महत्व है।कई काव्यनाटक भी उन्होंने लिखे हैं।आहत हैं वन,चेहरों के अंतरीप,पंख बिखरे रेत पर,सुनो तथागत,और हमने सन्धियां की,उनके गीत नवगीत संग्रह हैं तथा -एक और कौंतेय,गाथा आहत संकल्पों की,अंगुलिमाल उनके काव्य नाटक हैं।इसके अतिरिक्त गीत नवगीत की समीक्षा से भी वे पिछले दशकों से लगातार जुडे रहे हैं।  लखनऊ से पढ लिखकर जीवन भर हिसार में अंग्रेजी के प्राध्यापक रहे। उनका एक अंग्रेजी कविताओ का संकलन भी  प्रकाशित हुआ है।तो उनके कवि कर्म पर बात होनी चाहिए । लोग पीछे पडकर भी समीक्षा लिखवाने के लिए तमाम जतन करते हैं कुमार रवीन्द्र जी ने कभी मुझे इस प्रकार तंग नही किया। गत दिनों लखनऊ के नवगीत परिसंवाद -2011 पर केन्द्रित एक किताब मुझे निर्मल शुक्ल जी ने भेजी थी उसके आवरण पर कुमार रवीन्द्र जी का नवगीत प्रकाशित हुआ था।वह गीत है--इसी गली के आखिर में-
इसी गली के आखिर में है /एक लखौरी ईंटो का घर/किस पुरखे ने था बनवाया/दादी को भी पता नही है/बसा रहा अब उजड रहा है/इसमें इसकी खता नही है/एक एक कर लडके सारे /निकल गए हैं इससे बाहर।  
तो ऐसे लखौरी ईंटो की चिता के बहाने पुराने लखनवी तेवर याद दिलाने वाले और गृहरति की व्यापकता वाले  कवि के नवगीतों पर बात करना मेरे लिए अत्यंत सुख की बात है। लखौरी ईंटों  के रूप में न जाने कितने सामाजिक सरोकार संवेदन  के स्तर पर मिट गये और काव्य संवेदना के रूप में यहां सिमट गए हैं। कवि की अपनी जातीयता को चीन्हने के लिए एक और गीत का मुखडा देखिए----
नदी गोमती /शहर लखनऊ/हम बाशिन्दे उसी शहर के
 कुमार रवीन्द्र बिम्बों का घना शाल नहीं बुनते बल्कि सीधी सरल भाषा में संवेदना की अनुगूंज पैदा करते हैं।संयोगवश मैने कुमार रवीन्द्र जी का लखनऊ वाला पुराना मकान देखा है।मुझे एकबार उनकी माता जी के दर्शन करने और आशीर्वाद लेने का अवसर मिला है।पिछले दिनों-रखो खुला यह द्वार –शीर्षक से नया नवगीत संग्रह प्रकाशित हुआ है। यह कवि की लगतार सक्रियता का नया दस्तावेज है।
हालांकि सीधे साफ सुथरे गीत रचना कुमार रवीन्द्र की सीमा भी है और शक्ति भी ,कि वे गृहरति यानी घर आंगन के काव्य संसार से बेहतर संवेदनाएं चुराकर वे नवगीत मे ढालने का सफल प्रयोग करते हैं। उनके यहां नचिकेता जैसा जनवाद नही है और जनवाद की नारेबाजी भी  नही है। कभी कभी उनके गीतों मे अतीत चिंता नास्टेलिजिक स्तर पर भी दिखाई दे सकती है।लेकिन यह छन्दोबद्ध कवियों में नवगीत/गजल /दोहा कहते समय आ ही जाती है।
    इस संकलन की भूमिका में कवि ने जो गीत की समकालीनता के प्रश्न पर टिप्पणी की है वह भी पठनीय है। यहां यदि अप्रासंगिक न हो तो कहना चाहता हूं कि कुमार रवीन्द्र जी ने अपने पांच पृष्ठ के वक्तव्य में पांच शब्द भी अपने गीतों पर नही कहा है।तात्पर्य यह कि उन्हे विचार और निजी संवेदना को अलग करने का सलीका आता है।अन्यथा अधिकांश गीतकारों की भूमिका पढकर मन कचकचा जाता(उल्टी करने का  हो आता है ) है।ऐसे वास्तविक रचनाकार और आत्मप्रशस्ति की मदिरा मे धुत्त रचनाकार का फर्क कुछ लोग मिटा देना चाहते हैं। मुझे लंपटो की इस  नव बाजारवादी विकृति पर ऐतराज है।कुमार रवीन्द्र जी नवगीत के कबीर की तरह अपना ताना बाना लेकर  केवल अपनी सृजन धर्मिता से अपने सक्रिय होने का सबूत दे रहे हैं।इस समय में यह बडी बात है कबीर इस लिए क्योकि कबीर का मुहाबरा उनके गीतों मे उनके सिर चढकर बोलता है। साधो को संबोधित उनके गीत समावेशी समाजिक परिवेश की ओर संकेत तो करते ही हैं,कवि की निर्लिप्तता के भी परिचायक हैं। यह कवि के मन का साधो सूर और मिल्टन के पास से तथागत तक भी जाता है। लेकिन अपनी जमीन नहीं छोडता। वे कहते हैं-
सुनो बन्धु/यह गीत नहीं/अचरज की बोली है।
अर्थात कविता कवि के लिए संवाद की भाषा है।वो सुर ताल से श्रोताओं को रिझाने के लिए मंच के प्रपंच की भाषा कदापि नहीं है। जहां वे –
सुनो /बावरे नचिकेता की उल्टी बातें।  
कह कर पौराणिक मिथकों को नवगीत की परिभाषा देने की कोशिश करते हैं तो वहीं –
बांचो साधो/चार पदों का /सांसों का यह गीत हमारा।
कहकर एक ही  गीत में  जीवन के चार आयाम –बचपन ,जवानी,वृद्धावस्था और देहांतर तक की संवेदना को समो लेने का प्रयत्न किया है।प्रत्येक सजग कवि के पास उसकी अपनी जमीन और  जातीयता को आसानी से लक्षित किया जाता है । नगर बोध के स्वर नवगीत में खूब देखने को मिलते हैं कुमार रवीन्द्र के यहां भी ऐसे तमाम गीत हैं। देखें-
हवा बेदम/रौशनी कम/महानगरी की सुबह है
एक और चित्र देखें लेकिन लगता है यहां शायद प्रूफ की कोई कमी रह गई है-
अपनी आंखों पर/पट्टी सब बांधे रहते/कोई भी घर के बंटने का /हाल न कहते/आम कट चुके/खूब फले हैं आक धतूरा/महानगर में।
यहां कोई भी घर के बंटने का हाल न कहते के स्थान पर कहता होना चाहिए क्योकि कोई शब्द एक वचन है और उसकी क्रिया भी एक वचन की ही होनी चाहिए। बहरहाल  रोमानियत और नास्टेल्जिया दोनो ही गीत की संवेदना के साथ हमेशा जुडे. रहते हैं उनसे काटकर गीत को नही देखा जा सकता।अंतत: कुमार रवीन्द्र के नवगीत और उनका पाठ्य हमें नए आस्वाद के प्रति आश्वस्त तो करता ही है।  सच्चे कवि अपनी कविताओं में जीवित रहते हैं|उन्हें श्रद्धांजलि|

शुक्रवार, दिसंबर 28, 2018

नवगीत की परंपरा (क्रमश:)
न कोई बिम्ब न कोई चमत्कार,न कोई दूर की कौड़ी लाने का प्रयास ही किया गया|नवगीत की परंपरा को जाने समझे बिना जो लोग नवगीत क्या है पूछने लगते हैं,या जो कहते हैं कि नवगीत को गीत ही मान लिया जाए तो क्या फर्क पडेगा उन चिंतन शील युवा नवगीतकार मित्रों के लिए साझा कर रहा हूँ|गलेबाज मंचीय लोगों के लिए नहीं ये उन्हें कतई अच्छा नहीं लगेगा-

अकाल के बाद

कई दिनों तक चूल्हा रोया
चक्की रही उदास
कई दिनों तक कानी कुतिया
सोई उनके पास
कई दिनों तक लगी भीत पर
छिपकलियों की गश्त
कई दिनों तक चूहों की भी
हालत रही शिकस्त।

दाने आए घर के अंदर
कई दिनों के बाद
धुआँ उठा आँगन से ऊपर
कई दिनों के बाद
चमक उठी घर भर की आँखें
कई दिनों के बाद
कौए ने खुजलाई पाँखें
कई दिनों के बाद।---नागार्जुन


  • राम सेंगर नागार्जुन, नवगीत की परंपरा और पृष्ठभूमि को समृद्ध करने वाले अग्रगामियों में से एक हैं । वे अपनी तरह की औघड़ कहन के उस्ताद कवियों में रहे जिन्होंने फार्मूलाबद्ध काव्यरूपों के मुँह पर तमाचा जड़ते हुए कथ्य- शिल्प और लयात्मकता को लेकर ऐसे-ऐसे अनूठे लोकधर्मी...और देखें
    4
  • Prem Chandra Ghanghoriya बाबा नागार्जुन को प्रणाम भारत राष्ट्र के उन ऋषि-मुनियों को प्रणाम है जिन्होंने इसकी प्रारंभिक संरचना में अपना योगदान दिया होगा! बाबा को नमन पुनः नमन
    1
  • Dinesh Priyaman वही गीतात्मक रचना नवनीत कही जा सकती है जिसमें शिल्प व अन्तर्वस्तु का नयापन हो। यह कौशल गीत धारा की परम्परा को जानने के साथ अपने समय की सम्वेदना को नयेपन के साथ लयात्मक अभिव्यक्ति देने में है। आप मंचीय कविता की गलेबाजी पर जो टिप्पणी कर रहे हैं उससे सहमत...और देखें
    1
  • भूपेन्द्र दीक्षित बहुत बढ़िया कोई जवाब नहीं है
    1
  • Dineshwar Prasad Singh Dinesh बाबा नागार्जुन को नमन, आपको हार्दिक बधाई
    1
  • Bhartendu Mishra शंभुनाथ सिंह जी ने नवगीत अर्धशती" में नागार्जुन जी के गीत शामिल किये थे।
  • रमाकान्त नीलकंठ नागार्जुन की इस प्रसिद्ध कविता को गीत या नवगीत कहना कविता और नवगीत दोनो पक्षों के लिए अन्यायपूर्ण है और दूर की कौड़ी लाना है।
    1
  • Bhartendu Mishra रमाकांत जी ये आपका मत हो सकता है ,लेकिन नवगीत या गज़ल, दोहा आदि कविता की विधाएं हैं।नईकविता और नवगीत लगभग एक साथ हिंदी कविता में प्रचलित हुए ,ये प्रवृत्ति भर है। मुझे इसमें अन्याय जैसी बात समझ मे नहीं आती।शोध और समीक्षा की दृष्टि से विधाओं का विभाजन किया गया है।मूलतः तो सब कविता ही है।

  • नवगीत की परंपरा

    नवगीत आन्दोलन के प्रारंभिक दिनों का नवगीत है|जब त्रिलोचन जी बनारस में रहते थे|शंभुनाथ सिंह जी उनके मित्र थे|और ये चित्र डॉ.नामवर सिंह जी के साथ गंगा तट का है| नवगीत के शिल्प को समझने के लिए युवा मित्रों हेतु साझा कर रहा हूँ-

    आज मैं अकेला हूँ

    आज मैं अकेला हूँ
    अकेले रहा नहीं जाता
    जीवन मिला है यह
    रतन मिला है यह
    धूल में कि फूल में
    मिला है तो मिला है यह
    मोल तोल इसका
    अकेले कहा नहीं जाता|
    सुख आये दुख आये
    दिन आये रात आये
    फूल में कि धूल में
    आये जैसे जब आये
    सुख दुख एक भी
    अकेले सहा नहीं जाता|
    चरण हैं चलता हूँ
    चलता हूँ,चलता हूँ
    फूल में कि धूल में
    चलता मन चलता हूँ
    ओखी धार दिन की
    अकेले बहा नहीं जाता|
    (-धरती )चित्र में ये शामिल हो सकता है: एक या अधिक लोग और दाड़ी